Affiliate Marketing क्या होती है, जानिये Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाऐं

पैसा कमाना सबकी चाहत भी होती है और जरूरत भी। पैसा कमाने के बहुत से तरीके हैं। सभी लोग अपने पंसद के तरीके से पैसा कमाना चाहते हैं। इण्टरनेट के इस दौर मे पैसा कमाने के बहुत से नये तरीके मार्केट मे आये हैं। ऐसा ही एक तरीका है Affiliate Marketing. जिसे आप एक बार ढंग से समझ लेते हैं तो आप सोते—जागते, खाते—पीते, यात्रा करते हुये भी पैसा कमा सकते हो। आइये जानते हैं कि एफिलियेट मार्केंटिंग क्या है और इससे पैसे कैसे कमाते हैं।

एफिलियेट मार्केटिंग से आप डिजीटली पैसा कमा सकते हो। एक बार आपने पैसा कमाना शुरू किया तो आप दिन के 24 घण्टे की हर मिनट पैसा कमा सकते हो। फिर चाहे आप उस समय कुछ भी कर रहे हो। यानी अगर आप किसी Company में Job कर रहे हो या कोई Business कर रहे हो तो आप तब तक पैसा कमा पाओगे जब तक आप काम करोगे। आप जैसे ही ​Office से बाहर निकलोगे आप का पैसा आना बंद हो जाऐगा। फिर अगले दिन जब आप आफिस मे आओगे तब ही आपको पैसा आना शुरू होगा। लेकिन Affiliate Marketing मे ऐसा नही है यहॉ पैसा तब भी आयेगा जब आप काम करोगे और तब भी जब आप काम नही करोगे।

Affiliate Marketing क्या है।

एफिलियेट मार्केटिंग Digital Marketing का ही एक हिस्सा है। जिसमें हमें किसी भी Product की मार्केटिंग Digital Platforms पर करनी है। मार्केटिंग के बाद प्रोडक्ट की जितनी भी Sell होती है उस पर एक Commission हमें मिल जाता है। इसे आम भाषा में समझते हैं मान लीजिये आपके शहर में कपडे की कोई दुकान हैं और आपकी उस दुकानदार से Deal हो रखी है कि आपके द्वारा जितने भी ग्राहक उस दुकान मे लाऐ जाऐंगे आपको हर Sell पर Commision चाहिये। अब आप जितने ज्यादा ग्राहकों को उस दुकान पर ले जाऐंगे आपकी उतनी ही ज्यादा कमीशन होगी। अब इण्टरनेट का दौर है और इण्टरनेट पर Amazon, Flipkart, Myntra जैसी हजारों आनलाइन दुकान खुल गई हैं। उन दुकानों का प्रचार आपको आनलाइन प्लेटफॉर्म जैसे Facebook, Twitter, Other Websites आदि पर करना है। आपके द्वारा जितनी ज्यादा Sell होगी आपको उतना ज्यादा ही पैसा मिलेगा। ये आनलाइन दुकाने जिन्हे E-Commerce कहा जाता है वो आपको एक Unique Link देती हैं उस लिंक पर क्लिक करके कोई भी व्यक्ति किसी प्रोडक्ट को खरीदता है उसकी कमीशन आपके Bank Account में गिर जाती है।

Affiliate Marketing Program काम कैसे करता है।

जो भी कम्पनी अपने प्रोडक्ट को बेचने के लिये Affiliate Marketing का इस्तेमाल करती है वो अपनी वेबसाइट पर इसके बारे में बताती है। आपको उस कम्पनी के Affiliate Program को ज्वाइन करना होगा। ज्वाइन करने के लिये आपको अपने बारे में कुछ Details भरनी होती है। कम्पनी जब आपको एप्पलीकेशन को अप्रूव करती है तो आपको अपने प्रोडक्टस का Unique Link प्रोवाइड कराती है। उस Unique Link के जरिये आपको कम्पनी के Product प्रमोट करने होते हैं। आप उसे अपने Digital Platforms पर प्रमोट करोगे और उस Link के ​जरिये कम्पनी की जितनी भी सेल होगी कम्पनी द्वारा एक commission आपको दिया जाऐगा। आपको एक पैनल दिया जाऐगा जहॉ आप ट्रेक कर सकते हो कि आपके द्वारा कितने प्रोडक्ट सेल किये गये और किसी प्रोडक्ट पर आपको कितना कमीशन मिला और आपका अब तक कितना कमीशन हुआ है। एफिलियेट मार्केटिंग सिस्टम पूरी तरह से क्लियर होता है। यहॉ मार्केटर से कोई भी चीज छिपाई नही जाती है।

एफिलियेट मार्केटिंग के लिये कौन से डिजीटल प्लेटफार्म्स का इस्तेमाल होता है।

आप किसी भी डिजीटल प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते हो लेकिन उस पर आपके पास बहुत ज्यादा यूजर होने चाहिये, क्योंकि जब ज्यादा यूजर होंगे तभी आपकी ज्यादा सेल निकलेगी।

एफिलियेट मार्केटिंग में इस्तेमाल किये जाने वाले कुछ मुख्य प्लेटफार्म्स
Blogging or Content Marketing
YouTube videos
PPC Marketing (Facebook ads, AdWords ads)
Buying paid traffic
Email Marketing
Creating a “coupon & deals” website
Creating Cashback websites like CashKaro

एफिलियेट मार्केटिंग से जुडी कुछ Basic बातें

Affiliates क्या होता है।

Affiliates उसे कहा जाता है जो ​व्यक्ति किसी भी Affiliate Program को ज्वाइन करके उसको प्रमोट करते हैं। आसान भाषा में अगर आप एफिलियेट मार्केटिंग करते हो तो आप Affiliates कहलाओगे।

Affiliate Marketplace क्या है।

Affiliate Marketplace उन कम्पनियों को कहते हैं जो अलग अलग कम्पनियों के Affiliate Program के बारे में एक ही जगह जानकारी देती हैं ये कम्पनिया एक Centralize Database का काम करती हैं जिनसे जुड कर आपको एक ही जगह बहुत सारी कम्पनियों के साथ काम करने का मौका मिलता है।

Affiliate Software क्या है।

कम्पनियों द्वारा उनके Affiliate Program को मैनेज करने के लिये जिस Software का इस्तेमाल किया जाता उन्हे Affiliate Software कहा जाता है मार्केट में ऐसे कई सारे सॉफ्टवेयर हैं जैसे iDevaffiliate, HasOffers आदि

Affiliate ID क्या होती है।

Affiliate ID में यूजर को एक Unique Affiliate ID दी जाती है जो कि Affiliates की पहचान होती है उसी आईडी के जरिये ही Affiliate के बारे में जानकारी जुटाई जाती है जैसे उसके द्वारा कितनी Sale कराई गई और उसका Commission कितना हुआ। Account और Payment की जानकारी इसी ID से जुटाई जाती है।

Affiliate Link क्या होता है।

हर Affiliates को अलग अलग प्रोडक्ट के लिये अलग अलग Link प्रोवाइड करवाया जाता है, जिससे वो उन्हे प्रमोट करके अलग अलग Products की Sell करवा सके। वहीं इस Link की मदद से यह भी जानकारी जुटाई जाती है कि किस Affiliates ने कौन से Product की कितनी सेल करवाई है।

Commission क्या होती है।

Affiliate द्वारा द्वारा जितनी भी Sell कराई जाती है उस Sell के बदले में मिलने वाला पैसा Commission कहलाता है। ये कमीशन अलग अलग Product पर अलग अलग होता है। ये सेल के प्रतिशत मे भी हो सकता है या फिर Flat Amount हो सकती है।

Affiliate Manager क्या होते हैं।

कुछ एफिलियेट्स प्रोग्राम्स द्वारा Affiliates  की मदद के लिये कुछ व्यक्तियों को रखा जाता है जो उन्हे सुझाव देते हैं और Payment, Approval या अन्य किसी प्रकार की Problems मे उनकी मदद करते हैं। उन्हे Affiliate Manager कहा जाता है।

एफिलियेट मार्केटिंग से जुडे कुछ सवाल व उनके जबाब

1. एफिलियेट मार्केटिंग से जुडने के लिये कौन—कौन से प्लेटफार्म इस्तेमाल कर सकते हैं।
कोई भी डिजीटल प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकते हो। वस वहॉ आपसे ज्यादा ज्यादा यूजर जुडे होने चाहिये। आप सोशल मीडिया प्लेटफार्म जैसे Facebook, Twitter, Instagram आदि का इस्तेमाल कर सकते हो। वहीं आप ब्लॉग, वेबसाइट या यूट्यूब चैनल बनाकर एफिलियेट मार्केटिंग कर सकते हो। ब्लॉगिंग एफिलियेट मार्केटिंग के लिये एक अच्छा तरीका माना जाता है ।

2. क्या Google Adsenes के साथ एफिलियेट मार्केटिंग प्रोग्राम में काम कर सकते हैं।
जी जरूर कर सकते हो। आप गूगल एडसेंस या किसी अन्य एड नेटवर्क के साथ एफिलियेट मार्केटिंग कर सकते हो लेकिन एक बात का ख्याल रहे कि आप जिस भी प्रोग्राम की एफिलियेट मार्केटिंग कर रहे हो उसका कंटेंट अश्लील या फ्रॉड न हो अन्यथा गूगल एडसेंस आपको ब्लॉक कर देगा।

3. किन—किन कम्पनियों के एफिलियेट प्रोग्राम से जुड सकते हो।

सभी कम्पनियॉ नही लेकिन ज्यादातर कम्पनियॉ एफिलियेट प्रोग्राम के लिये आफर कर रही हैं आप उनसे जुड सकते हो वहीं अगर आप सभी कम्पनियों के लिये एफिलियेट से नही जुडना चाहते हो तो आप एफिलियेट मार्केटपेलेस से जुड सकते हो। मार्केट प्लेस से जुडने का फायदा यह होता है कि एक ही बार में आप बहुत सी कम्पनियों के एफिलियेट मार्केट से जुड जाओगे।

4. एफिलियेट मार्केटिंग से कितना पैसा कमा सकते हो

इसका सीधा सीधा जबाब है कि आपके पास जितना बडा नेटवर्क होगा आप उतनी ज्यादा ही सेल कर पाओगे ओर ज्यादा सेल करने का मतलब है ज्यादा पैसा कमाना।

एफिलियेट मार्केटिंग से जुडी कुछ मजेदार बातें

अगर कोई व्यक्ति आपके लिंक पर क्लिक करके किसी भी वेबसाइट पर जाता है और वो कोई भी प्रोडक्ट नही खरीदता है तो आपको कोई कमीशन नही मिलेगा लेकिन अगर वो 60 दिन के भीतर उसी वेबसाइट से कोई भी प्रोडक्ट खरीदता है तो उसका कमीशन आपको मिलेगा। इस आफर को Cooking Period Offer कहते हैं।

वहीं अगर आपके क्लिक करने के बाद यूजर किसी वेबसाइट पर पहुॅच गया और उसने कोई और प्रोडक्ट खरीद लिया जिसका आपने प्रमोशन नही किया तब भी आपको कमीशन मिलेगी। एफिलियेट मार्केटिंग मे एफिलियेट्स के लिये काफी कुछ कमाने को है। यही कारण हैं कि एफिलियेट मार्केट इतनी लुभावनी हैं। आप इस प्रोग्राम से जुडकर आसानी से पैसा कमा सकते हो। आनलाइन पैसा कमानें के लिये एफिलियेट मार्केटिंग बेस्ट तरीकों में से एक है।

उम्मीद है कि हमारे इस आर्टिकल में आपको एफिलियेट मार्केट की पूरी जानकारी मिल गई होगी। अगर आपके मन मे एफिलियेट मार्केटिंग को लेकर कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में हमसे पूछ सकते हो। आपके कमेंट का जबाब 100 प्रतिशत दिया जाऐगा।

अगर आपको हमारे आर्टिकल अच्छे लगते हैं तो हमारे फेसबुक पेज को लाइक करके हमसे जुडें। आप हमें टिवटर पर भी जुड सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here